window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'UA-264151987-1');

Education News: इतिहास की किताबें नहीं बदली जाएंगी, जारी रहेगा पुराना सिलेबस

Anil Biret
2 Min Read

SSO Rajasthan, Education News: हाल ही में एनसीईआरटी ने इतिहास से मुगलों का चैप्टर हटा दिया है, लेकिन अब इसे राजस्थान के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा। राज्य में सिर्फ पुरानी इतिहास की किताबें ही पढ़ाई जाएंगी। पुराने सिलेबस की डेढ़ लाख किताबें छप चुकी हैं। राज्य के शिक्षा मंत्री ने कहा कि इतनी सारी किताबें बर्बाद नहीं होंगी और स्कूलों में सिर्फ यही पढ़ाया जाएगा.

शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने कहा कि केंद्र ने कोर्स को 30 फीसदी कम करने के नाम पर इतिहास से छेड़छाड़ की है. हम इतिहासकारों से समीक्षा कर रहे हैं। अगर डेढ़ करोड़ बही हटाई जाती है तो राज्य सरकार को 100 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।

वहीं सांसद दीया कुमारी ने कहा कि अपने राजनीतिक फायदे के लिए बच्चों को गलत इतिहास पढ़ाना सही नहीं है. उन्होंने कहा कि जब केंद्र ने बदलाव किया है तो क्या राजस्थान की सरकार बच्चों को दूसरे राज्यों से अलग कोर्स पढ़ायेगी? राजनीति में बच्चों का इस्तेमाल गलत है

वहीं, भाजपा के प्रदेश मंत्री लक्ष्मीकांत भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार मुगल प्रेमी है। अगर पुराना सिलेबस पढ़ाते हैं तो फिर भी पढ़ाने दीजिए, 6 महीने बाद राज्य में बीजेपी की सरकार बनेगी और फिर सिलेबस में बदलाव करेंगे.

बता दें कि हाल ही में एनसीआरटी ने इतिहास के सिलेबस में कई बदलाव किए हैं। जिसके तहत मुगल, गुजरात दंगा समेत कई अध्यायों को हटाया गया है। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से सभी राज्यों को एक पत्र भी जारी किया गया है, जिसमें कहा गया है कि सभी राज्यों के स्कूलों में एनसीआरटी और एससीईआरटी की किताबें पढ़ाई जाएंगी.

राजस्थान बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षा खत्म हो चुकी है और 5वीं की परीक्षा शुरू हो चुकी है। राजस्थान बोर्ड 5वीं की परीक्षा संपन्न होने के बाद 10वीं और 12वीं के रिजल्ट की तारीख जारी कर सकता है। मई में रिजल्ट घोषित होने की संभावना है। बोर्ड के नतीजे आधिकारिक वेबसाइट rajeduboard.rajasthan.gov.in पर घोषित किए जाएंगे।

Share this Article
Leave a comment