window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'UA-264151987-1');

NCERT के सिलेबस में हुआ बड़ा बदलाव, किताबों को लेकर असमंजस

Anil Biret
4 Min Read

SSO Rajasthan, NCERT Syllabus Change: नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) ने सत्र 2023-24 से सिबेलब में कुछ बदलाव किए हैं। 6वीं से 12वीं तक का सिलेबस कम कर दिया गया है। इधर, किताबों की खरीद को लेकर अभिभावकों और छात्रों के बीच असमंजस की स्थिति बनी हुई है। स्कूलों की ओर से अभी कोर्स को लेकर स्थिति पूरी तरह स्पष्ट नहीं की गई है।

सीबीएसई से गाइडलाइन नहीं मिली है

स्कूलों को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से दिशा-निर्देश नहीं मिले हैं। बता दें कि सीबीएसई स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबों से पढ़ाई होती है। ऐसे में छात्र इस असमंजस में हैं कि एनसीईआरटी की नई किताबें बाजार में आएंगी या फिर उन्हें पुरानी किताबों से पढ़ाई करनी होगी। कई छात्र अभी भी नई किताब का इंतजार कर रहे हैं।

सीबीएसई सत्र जुलाई में शुरू होगा

सीबीएसई स्कूलों में जुलाई में पहली टर्म की परीक्षा नए सत्र से शुरू हो गई है। पहले टर्म की परीक्षा जुलाई में होनी है और कुछ दिनों में गर्मी की छुट्टी होनी है, ऐसे में उन्हें चिंता है कि पढ़ाई कैसे होगी। हालांकि इस मामले में शिक्षकों और पुस्तक विक्रेताओं का कहना है कि एनसीईआरटी ने अभी तक किसी नई किताब की घोषणा नहीं की है. वर्तमान में छात्रों को चाहिए कि वे बाजार में उपलब्ध पुस्तकों को लें और हटाए गए अध्यायों को क्रॉस-रीड करें।

पिछले सत्र की तरह कक्षा में पढ़ाई जारी रही

सहोदय ग्रुप के चेयरमैन और जेवीएम श्यामली के प्रिंसिपल समरजीत जाना ने कहा कि इस संबंध में सीबीएसई या शिक्षा मंत्रालय की ओर से कोई दिशा-निर्देश नहीं आया है. हम पिछले सत्र की तरह ही कक्षाओं को पढ़ा रहे हैं।

मैथ्स-साइंस के चैप्टर 6वीं से बदलकर 8वीं किए गए

इन विषयों में हुए हैं बदलाव छठी से आठवीं कक्षा में गणित और विज्ञान विषयों में कुछ चैप्टर हटा दिए गए हैं। वहीं, 12वीं के इतिहास, नागरिक शास्त्र और हिंदी के सिलेबस में कुछ बदलाव किए गए हैं। इतिहास की किताबों से मुगल साम्राज्य से संबंधित ग्रंथों को हटा दिया गया है, जबकि हिंदी की किताबों से कुछ कविताएं और पैराग्राफ भी हटा दिए गए हैं। 10वीं और 11वीं की किताबों से भी कई चैप्टर हटा दिए गए हैं।

नई शिक्षा नीति के तहत सिलेबस कम किया

नई शिक्षा नीति के तहत किए गए बदलाव सीबीएसई स्कूल के शिक्षकों का कहना है कि नई शिक्षा नीति के तहत पाठ्यक्रम को कम किया गया है। नई नीति योग्यता आधारित और गतिविधि आधारित कक्षाओं का संचालन करना है। कक्षाओं में बच्चों की भागीदारी बढ़ाने के लिए पाठ्यक्रम को कम किया गया है।

रांची के एक बुकसेलर प्रखंड लोहिया ने कहा कि एनसीईआरटी की पुरानी किताबें हैं, जिनमें से कुछ चैप्टर हटा दिए गए हैं. बच्चे उस चैप्टर को हटाकर इस किताब से पढ़ाई कर सकते हैं। हालाँकि, यह बताया गया है कि एनसीईआरटी ने कक्षा छठी से आठवीं तक की किताबों को नए सिरे से छापा है। वह अभी तक रांची नहीं आई है। इसके लिए इंतजार करना होगा।

डीएवी बरियातू शिक्षक प्रणाशीष चंद्रकुच चैप्टर को हटा दिया गया है, इसकी जानकारी बच्चों को कक्षाओं में दे दी गई है। पुरानी किताबों से पढ़ाई हो रही है। एनसीईआरटी नई किताबें छापेगा या नहीं, कहा नहीं जा सकता। फिलहाल बच्चों को हटाए गए अध्यायों को छोड़कर पुरानी किताब से पढ़ाई करनी चाहिए।

Share this Article
Leave a comment