window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'UA-264151987-1');

अब Haryana के सरकारी Hospital में भी मिलेगी Privet Hospital जैसी सुविधा, देखें ताऊ खट्टर का ऐलान

Anil Biret
6 Min Read
Haryana Government Hospital: हरियाणा सरकार (Haryana Government) अब सरकारी अस्पतालों (Government Hospital) में भी प्राइवेट अस्पतालों (Privet Hospital) जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराएगी। अपने करनाल दौरे के दूसरे दिन वार्ड-पांच में जनसंवाद करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल (CM Manohar Lal Khattar) ने यह जानकारी दी।
मनोहर लाल (Manohar Lal Khattar) ने कहा कि इसके लिए हरियाणा सरकार आधारभूत संरचना तैयार कर रही है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि मानसून शुरू होने से पहले शहर की सभी सीवरेज, एसटीपी, नालों की विशेष अभियान चलाकर सफाई कराएं।
सीवरेज व नालों के रास्तों को चौड़ा किया जाए ताकि बरसाती पानी की निकासी सही तरीके से हो सके। उन्होंने असंल सिटी में सीवरेज की समस्या को एक सप्ताह का नोटिस जारी करने व बातचीत के आधार पर समस्या का समाधान करने को कहा।
राशन कार्ड (Ration Card) कटने की अधिक शिकायतों के निस्तारण पर दूसरे दिन भी उन्होंने जोर दिया और कहा कि परिवार पहचान पत्र (Family ID) के अनुसार जिस भी व्यक्ति का राशन कार्ड कट गया है वह मुझे बताए, उसकी जांच अभी कराऊंगा, क्योंकि मेरा दफ्तर मेरे साथ चलता है।
किसी पात्र व्यक्ति का राशन कार्ड (Haryana Ration Card) कट गया है तो वह एडीसी कार्यालय (ADC Office) में जाकर ठीक करवा सकते हैं। सरकार ने अधिक से अधिक गरीब लोगों को बीपीएल सूची (BPL Ration Card List) में शामिल करने के लिए ही बिजली बिल सीमा को नौ हजार से बढ़ाकर 12 हजार रुपये तक किया है, जिससे प्रदेश में करीब साढ़े 12 लाख नए राशन कार्ड बने हैं।
मुख्यमंत्री ने लोगों को बताया कि वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार बीपीएल कार्ड बनाए गए थे। इस लंबी अवधि के दौरान कुछ परिवारों में सरकारी नौकरी भी लग गई, वे भी व कई अन्य संपन्न लोगों सहित करीब साढ़े 8 लाख अपात्र लोग बीपीएल सूची में शामिल थे, जिनके कार्ड काटे गए हैं।
SSO Rajasthan, Haryana
सरकार द्वारा योग्यता के आधार पर नौकरी दी जा रही है, जिसके फलस्वरूप पर्ची खर्ची के चक्कर में पड़ने बजाय कोचिंग सेंटर में अपनी परीक्षा की तैयारी करते नजर आ रहे हैं। अब बगैर पैसे के नौकरी मिल रही है।
कार्यक्रम के दौरान वार्ड पांच की विकास कॉलोनी, गोपी वाली गामड़ी, पाम एन्क्लेव, कटाबाग, असंल डीआरटी एन्क्लेव के लोगों की पेयजल की समस्या के निवारण के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि एक माह के दौरान जरूरत के हिसाब से नए ट्यूबवेल लगवाएं, जल्द पाइपलाईन बिछाने का कार्य भी पूरा किया जाए।
उन्होंने बताया कि शहर में पानी व सीवरेज को लेकर 13 करोड़ रुपये के कार्यों के टेंडर छह जून को लग जाएंगे। इसके बाद अधिकारी अपना कार्य शुरू कर दें। इस दौरान उन्होंने कई सरकारी योजनाओं के बारे में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने हरियाणा में व्यवस्था परिवर्तन की सराहना की।

अफसर गंभीरता से शिकायतों का समाधान करें

मुख्यमंत्री ने नगर निगम व एचएसवीपी के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने कार्यालय में शिकायत काउंटर स्थापित करें और जो भी शिकायतें प्राप्त होती हैं, उनका एक सप्ताह में स्थलीय सत्यापन कर गंभीरता के साथ समाधान करें।
आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न

प्रश्नः हरियाणा में सबसे बड़ा हॉस्पिटल कौन सा है?

उत्तरः Amrita Hospital Faridabad: हरियाणा में सबसे बड़ा फरीदाबाद में है जिसका नाम अमृता अस्पताल है जो एशिया के सबसे बड़े सुपर-स्पेशियलिटी अस्पतालों में से एक है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 24 अगस्त 2022 को 2, 600 बिस्तरों वाले इस अस्पताल का उद्घाटन किया था

प्रश्नः हरियाणा में कितने अस्पताल हैं

उत्तरः मेड़इंडिया की अस्पताल निर्देशिका में हरियाणा में कुल 4388 अस्पतालों की जानकारी दी गई है। जिसमें Amrita Hospital Faridabad सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल है।

हरियाणा सरकार के पैनल में कौन कौन से हॉस्पिटल है?

हरियाणा सरकार (Government Of Haryana) के पैनल में बत्रा अस्पताल एंड मेडिकल रिसर्च सेंटर, नईदिल्ली, फोर्टिस अस्पताल, मोहाली, मेट्रो अस्पताल, फरीदाबाद, कल्याणी अस्पताल गुडगांव, मुकुट हार्टइंस्च्यिूट, चंडीगढ़, महाराजा अग्रसेन अस्पताल, नईदिल्ली, राजन अस्पताल, यमुनानगर, दृष्टि आई अस्पताल, पंचकूला, आर्ट मिस मेडी केयर सर्विस, फरीदाबाद, एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस

भारत में सरकारी अस्पताल कितने हैं?

इस जनगणना के अनुसार, यह देखा गया कि भारत में कुल 11,933 अस्पताल हैं। इन अस्पतालों में 7.84 लाख मरीजों के लिए बेड की उपलब्धता दर्ज की गई है। अब शहरी और ग्रामीण इलाकों में अस्पतालों की संख्या की बात करें तो आपको बता दें कि शहरी इलाकों में 4,146 अस्पतालों की संख्या दर्ज की गई है, जहां 6.18 लाख बेड मुहैया कराए गए हैं.

Share this Article
Leave a comment